Thursday, March 5, 2009

मीठे पानी की झील में एक शंख !


उसके साथ यह पहली बार हुआ। वह आवाज उसकी आत्मा के चारों कोनों तक गूंज गई। वह आवाज ऐसे दौड़ी जैसे रगों में खून दिल की अोर दौड़ता है।
मोबाइल फोन पर वह एसएमएस आने की आवाज थी।
उसका हाथ बादलों में कौंधती बिजली की तरह मोबाइल तक पहुंचा। उसकी सांस रूकी थी। इस सांस रूकने में उसे यह पहली बार महसूस हुआ कि खून दिल की तरफ नहीं उसके कान की तरफ दौड़ा। उसे लगा कान सुर्ख हो चुके हैं। उसका बांया हाथ अपने आप उठा और बांए कान को छूने लगा।
यह चमत्कार था। वहां कान की जगह एक फूल उगा हुआ था।
उसने झटके से हाथ हटाया, जैसे करंट लगा हो। उसे लगा, वह देर तक कान को पकड़े रखेगा तो फूल या तो मुरझा जाएगा या झर जाएगा।
उसे समझ नहीं आया कि वह क्या करे।
उसकी अंगुलियों में उस फूल की छुअन अब भी एक आलाप ले रही थी।
उसने अपना ध्यान हटाया और मोबाइल की स्क्रीन को देखा-
वन मैसेज रिसीव्ड।
वह थोड़ी देर उसे ही पढ़ता रहा। वह दुनिया का सबसे रोमांचकारी वाक्य पढ़ रहा था। उसने महसूस किया उसके एक एक रोयों के कान एकदम खड़े हो गए हैं।
उसके कानों में धड़ धड़ धड़ धड़ की आवाज थी। उसने अपने सीने के बायीं अोर हाथ रखा। वहां भाप का इंजिन दौड़ रहा था।
उसने अोपन किया। वहां फ्री रिंग टोन का मैसेज था। उसे झल्लाहट हुई।
उसके बाद फिर वह आलाप धीरे धीरे मद्धम पड़ने लगा, धड़ धड़ धड़ धड़ की आवाज दूर जाती लगी।
फिर क्या हुआ कि उसे एक अजीब आदत पड़ गई। वह रात में सोते वक्त भी मोबाइल हाथ में लेकर सोने लगा। इस वजह से उसकी नींद बार बार टूटती भी। वह जाग-जागकर देखता कि कहीं मोबाइल का स्विच अॉफ तो नहीं हो गया।
झपकी की नींद में वह एक मीठे पानी की झील में तैर रहा था। वह न हाथ चला रहा था, न पांव। उसका शरीर एकदम हलका होकर बेआवाज तैर रहा था। उसे लगा उसका मोबाइल किसी खूबसूरत शंख में बदल जाएगा। और वहां कोई मैसेज किसी मोती की तरह खिलेगा।
उसे लगा उसका चेहरा एक उजाले में दिपदिपा रहा है। उसने आंखें खोली।
उसकी अंगुलियों ने मोबाइल को अब भी थाम रखा है...!

(फोटो ः अॉल पोस्टर्सडॉटकॉम से साभार)

6 comments:

रंजना [रंजू भाटिया] said...

लफ्जों को आशा के रंग में रंग दिया आपने ..सुन्दर ..उड़ते मन को पंख देने की अभिव्यक्ति सी लगी यह मुझे

Bahadur Patel said...

ravindra bhai bahut achchha likha .
maja aa gaya.
badhai.

Ashok Pande said...

उम्दा गद्य. सदा की तरह.

neera said...

खूबसूरत! इस मेजिक मोबाइल का मेक और नेटवर्क कौनसा है?

निशांत मिश्र said...

A very beautiful blog indeed... good paintings... and great content. I should have been here earlier.

Bahadur Patel said...

आपको और आपके परिवार को होली मुबारक