Saturday, September 20, 2008

सातवीं सीढ़ी और पीले फूल


अजगर को समर्पित करते हुए...
वे कॉलेज के चमकीले दिन थे और हमेशा की तरह वह सीढ़ियां गिनते हुए चढ़ रहा था। जब वह सातवीं सीढ़ी पर था, एक लड़की उसके पास से बहुत तेजी से उतरी। बेफिक्र और बेपरवाह। उसकी पीली चुन्नी उसे छूते हुए निकल गई। वह उसी सीढ़ी पर थोड़ी देर के लिए खड़ा रह गया, अवाक्। उसने महसूस किया, उसके सीने के बाईं अोर कहीं उस चुन्नी का पीला रंग छूट गया है जो धडकनों के साथ मिलकर छोटे-छोटे पीले फूलों में खिल गया है। उसने एक गहरी सांस ली और पाया कि सांसों में खुशबू बसी है। उस लड़के को पहली बार यकीन हुआ कि दुनिया में जादू भी होते हैं।
उसे ध्यान आया कि वह उस लड़की का चेहरा नहीं देख पाया। यही सोचकर वह पलटा तो उसने देखा वहां एक खाली और सूना गलियारा है और सन्नाटा पसरा हुआ है। सातवीं सीढ़ी पर खड़ा होकर वह सोचने लगा कि उसी लड़की के साथ सात जनम की कसमें खाएगा, सात फेरे लेगा और कभी भी उससे सात समंदर दूर नहीं जाएगा।
उसके दिन बदल गए। उसकी शामें बदल गईं। उसकी रातें बदल गईं। उसकी करवटें औऱ सलवटें बदल गईं। उसकी धड़कनें और सांसें बदल गईं। फिर उसकी आदतें बदल गईं। वह एक नई और अजीब-सी आदत का शिकार हो गया। वह उसके पास से गुजरने वाली हर लड़की को बहुत ध्यान से देखता। और उस लड़की को तो वह बहुत ही ध्यान से देखता जिसने पीली चुन्नी डाल रखी हो। जब भी कोई लड़की उसके पास से गुजरती वह रुककर गहरी सांस लेने लगता। इस आदत की वजह से कई बार कई लड़कियां उसे संदेह की निगाह से देखतीं। कुछ बिचकतीं, कुछ सहमतीं। कुछ रास्ता बदल लेतीं।
मौसम बदलते हैं। रिमझिम बारिश होती है, गुलाबी ठंड पड़ती है और बसंत आता है और पीले फूल खिलते हैं।
फिर एक दिन ऐसा आता है कि वह उसकी क्लास की ही एक लड़की की शादी में अपने दोस्तों के साथ जाता है और लडकी को शादी की बधाई देते हुए हाथ मिलाता है तो सीने के बाईं अोर एक पीला रंग और पीला होकर चमकने लगता है और धड़कनों के साथ घुममिल कर छोटे-छोटे पीले फूलों में खिल गया जाता है। वह उस लड़की के पास थोड़ी देर खड़ा रहता है, फोटो खींचवाता हुआ। गहरी सांस लेता है, तो पाता है कि उसकी सांसों में खुशबू बसी है और वह अपने कॉलेज की उसी सातवीं सीढ़ी पर खड़ा है, अवाक्, जहां एक लड़की की चुन्नी का पीला रंग उसके दिल पर छूट गया था।
चारों तरफ चहल-पहल है, लोग एक-दूसरे से हंसते-खिलखिलाते मिल रहे हैं, संगीत बज रहा है लेकिन वह लड़का अब भी सातवीं सीढ़ी पर खड़ा होकर फिर से सोचना चाहता है कि वह उसी लड़की के साथ सात जनमों की कसमें खाएगा, सात फेरे लेगा और उससे कभी भी सात समंदर दूर नहीं जाएगा...

13 comments:

surabesura said...

क्या बात है ! सातवीं सीढ़ी के ख्वाब के चित्र ?

अफ़लातून

एस. बी. सिंह said...

ham sab ki ek satavi sidi hai shayad. bahut achchha likha.

Suman said...

Nice and very realistic story of crush...

Udan Tashtari said...

अच्छी कहानी.

शायदा said...

बहुत सुंदर। फूल, चुन्‍नी और सातवीं सीढ़ी इसमें झूठ तो ज़रा भी नहीं दिखता। बढि़या

Parul said...

munbhaayii!!

अजित वडनेरकर said...

अच्छी बातें...

प्रदीप मिश्र said...

कभी जमीन पर भी उतरो। वहाँ की धूसर और उबड़खाबड़ में शायद कुछ मिल जाए। जिसमें कुछ ताजगी हो।

मोहन वशिष्‍ठ said...

वाह रविन्‍द्र जी बहुत ही अच्‍छी कहानी मजा आ गया पढकर आपकी कविताओं में भी एक कशिश है बधाई हो आपको

Ek ziddi dhun said...

bhaskar mein kavitayen padheen aapki

परेश टोकेकर 'कबीरा' said...

रविन्द्र जी बहुत बढीया।

cartoonist ABHISHEK said...

blog par loot lete ho tum....
badhai

धर्मेन्‍द्र चौहान said...

वाह रविंद्र सर मजा आ गया। लग रहा है कल बसंत पंचमी है।